Saturday, November 11, 2006

प्रतिक्रियाएँ

प्रतिक्रियाएँ

2 Comments:

At 11:30 PM, Blogger Anunad said...

कवितायें काफी अच्छी लगीं, किन्तु उससे अधिक बाल-कविताओं को समर्पित एक ब्लाग की शुरुवात अच्छी लगी। अच्छी कवितायें जीवन की धारा को सुपथ पर मोड़ सकने की क्षमता रखती हैं, और उस पर ये बचपन में ही मिल जाँय तो क्या कहने।

 
At 9:00 AM, Blogger दीनदयाल शर्मा said...

श्रद्देय राष्ट्र बन्धु जी भाई साहब, सादर प्रणाम, नेट के ज़माने में आपका ब्लॉग देख कर बहुत ही ख़ुशी हुई. बधाई. अब आप भी पूरी दुनिया से जुड़ गये हो. फिर से बधाई.
www.http://deendayalsharma.blogspot.com
www.http://tabartoli.blogspot.com

 

Post a Comment

<< Home